कैसे करें एक बेहतर ब्लॉग की शुरूआत | ब्लॉगिंग सीरीज पोस्ट— 2

अगर अाप अपना नया ब्‍लॉग बनाने जा रहे हो तो जरा ध्‍यान दीजिये। यह पोस्‍ट उन्‍ही ब्‍लॉगर्स के लिये है जो अपना नया ब्‍लॉग बना रहे हैं। या अपने ब्‍लॉग में बदलाव करनें जा रहे हैं। दोस्‍तो अगर आप पूरी तरह से ब्‍लॉगिंग में अाये हो और अपना अौर अपने ब्‍लॉग का एक खास मुकाम बनाना चाहते हो तो अापको कुछ बुनियादी बातों को ध्‍यान में रखकर ब्‍लॉग बनाना पडेगा। अगर आपकी श्‍ाुरूआत अच्‍छी और बेहतर ढंग से होगी तो आपका ब्‍लॉग उतना ही प्रसिध्‍द होगा। इसलिये ब्‍लॉग बनानें से पूर्व इन बातों पर गौर कीजिये और अपने ब्‍लॉग की श्‍ाुरूआत बेहतर ढंग से कीजिये। ब्लॉग क्या होता है, पूरी जानकारी हिन्दी मे

नये ब्लॉगर अपना ब्लॉग तो बना लेते है लेकिन ज्यादातर ब्लॉगर ब्लॉगिंग मे सफल नही हो पाते हैं। जिसके अनेको कारण है। ब्लॉग बनाने से पहले पूरी तैयारी कर लेनी चाहिये। अगर आप ब्लॉगिंग टाइम पास के लिये बना रहे है तो ठीक है लेकिन अगर आप ब्लॉगिंग से फेमस होने व पैसा कमाने का सपना देखते है तो आपको ब्लॉगिंग को गम्भीरता से लेना होगा और पहले ही दिन से ब्लॉग को प्रोफेशनल तरीके से चलाना होगा।

1. अवश्‍य चुनें स्‍वयं का डोमेन

यदि आप वास्तव मे एक सफल ब्लॉगर बनना चाहते है तो ब्लॉग का डोमेन नेम अवश्य चुने। अगर सम्भव हो तो ब्लॉग शुरू करने के पहले ही दिन डोमेन नेम ले लें। डोमेन नेम आपके ब्लॉग के लिये बहुत जरूरी है। ये आपकी एक यूनिक पहचान होती है और लोग भी आपके ब्लॉग को गम्भीरता से लेते हैं। आज एक भी सफल ब्लॉग ऐसा नही है जिसका खुद डोमेन नेम न हो। बहुत से लोग फ्री वाले डोमेन का इस्तेमाल करते है सोचते है कि सफल होने के बाद मे ही डोमेन नेम खरीदा जाऐगा। यहॉ वो एक बडी गलती कर देते है। हो सकता है कि फ्री डोमेन नेम वाले ब्लॉग भी सफल हो जाऐं लेकिन इसके लिये आपको ज्यादा समय लगेगा। कुछ लोगो का कहना ये भी है डोमेन का ब्लॉगिंग के सफल होने से कोई कनेक्शन नही है कन्टेट मे दम होना चाहिये। ये बात भी एक हद तक सही है। लेकिन अगर कोई भी व्यक्ति आपके ब्लॉग को सर्च करता है तो आदतन आपके ब्लॉग के नाम के पीछे डॉट कॉम लगा देता है। मान लीजिये किसी ब्लॉग का नाम gyanibabu.blogspot.in या gyanibabu.wordpress.com है लेकिन यूजर को आपका ब्लॉग अच्छा लगा और वो जब वापस आपको ब्लॉग को सर्च करेगा तो उसे सिर्फ एक ही नाम याद रहेगा ज्ञानी बाबू इसके बाद वो आदतन ही gyanibabu.com लिख कर सर्च करेगा और अगर उस डोमेन पर कोई और ब्लॉग पहले से हुआ तो वह उसी पर पहुॅच जाऐगा। यानी आपका यूजर्स धोखे से किसी और ब्लॉग पर चला जाऐगा।

इसके अलावा आपका ब्लॉग सफल होने लगा और इसी बीच किसी ने आपके ब्लॉग के नाम से डोमेन बुक करा लिया तो आपकी सारी मेहनत पानी हो जाऐगी। आपके सारे यूजर्स अनजाने मे उस ब्लॉग के यूजर बन जाऐगे। वहीं हो सकता है कि आप उस डोमेन को लेना चाहो तो आपको एक बडी कीमत चुकानी पडे। इसलिये ब्लॉग शुरू करने से पहले डोमेन नेम अवश्य ले ले। यदि सम्भव हो तो उस आपके ब्लॉग के सभी डोमेन जैसे .com, .in, .org बुक कर ले जिससे आपके ब्रॉडिंग का मजा कोई और न ले पाऐ। ब्लॉग के लिये परफेक्ट डोमेन कैसे चुनें।

2. सही प्‍लेटफार्म का इस्‍तेमाल करें

ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म भी ब्लॉग की सफलता मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिये ब्लॉग बनाने से पूर्व सही प्लेटफॉर्म का चयन कर लें। जो भी प्लेटफॉर्म चुने आप ये जरूर सुनिश्चित कर ले कि आपका ब्लॉग इसी प्लेटफॉर्म पर हमेशा चलता रहेगा। कुछ लोग शुरूआत मे फ्री के चक्कर मे ब्लॉगस्पॉट पर ब्लॉग बना लेते है और सोचते है कि बाद मे इसे वर्डप्रेस पर शिफ्ट कर लेंगे वहीं कुछ लोग शुरूआत मे वर्डप्रेस पर ब्लॉग बनाते है लेकिन होस्टिंग का खर्चा बाद मे नही उठा पाते और ब्लॉग को ब्लॉगस्पॉट पर शिफ्ट करने की सोचते है। दोस्तो शिफ्टिंग आसान है लेकिन इससे आपके ब्लॉग पर नकारात्मक प्रभाव जरूर पडता है। कई बार इतनी तकनीकि समस्या आती है जिससे निपटने मे आपका समय और धन दोनो बरबाद होता हैं। इसलिये ये जरूर सोच ले कि जिस भी प्लेटफॉर्म पर आप ब्लॉग बनाना चाहते हो क्या उस प्लेटफॉर्म पर आप हमेशा डटे रहोगे।

3. सही एवं पूर्ण रूप से डिजायन करें

आपके ब्लॉग की डिजाइन आपके यूजर को आपसे जोडे रखती है। आपके ब्लॉग की डिजाइन जितनी ज्यादा अच्छी होगी आपके ब्लॉग पर यूजर उतनी ही ज्यादा देर रूकेगा। ब्लॉग की डिजाइन से मतलब ये नही है कि आप अपने ब्लॉग को बेमतलब सजा लो। अच्छी डिजाइन से मतलब है कि उसके इस्तेमाल से यूजर आपके ब्लॉग को आसानी से पढ पाऐ। उसे कोई भी आर्टिकल ढूंढने के लिये दिक्कत न हो और आपकी डिजाइन उसे परेशान न करे। सही डिजाइन के लिये सही कलर भी होने चाहिये जो आॅखों को भी चुभे न। ऐसे कई ब्लॉग है जिन पर कंटेट काफी अच्छा है लेकिन सही डिजाइन न होने के कारण लोग उन पर वापस जाना पसन्द नही करते।

4. सोशल नेटवर्किंग साइट का करे भरपूर इस्तेमाल

नये ब्लॉग पर पाठक लाने का सहारा सोशल नेटवर्किंग साइटस ही होते है। ऐसे मे जरूरी है कि आप उनको अपना नियमित पाठक बना ले। आप उनसे जुडे रहें। समय समय पर उनसे पूंछते रहे कि उनको आपके ब्लॉग पर किसी तरह की पोस्ट चाहिये। वहीं सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उपस्थिति बनाते रहे जिससे आपको ये भी पता चलता रहेगा कि किस समय किस प्रकार के पोस्ट की मॉग है। उसी पर अपनी पकड बनाऐ। इससे आपको भविष्य मे अच्छे परिणाम हासिल होगे। वही सोशल मीडिया पर आपको नये नये विजीटर मिलते रहेंगे। इसके अलावा अपने ब्लॉग पर भी अपने सोशल मीडिया के लिंक शेयर करें जिससे कुछ ऐसे विजीटर जो गूगल मे सर्च करके आपके पास आये है वो भी आपसे जुड जाऐं।

5. अपने ब्लॉग के कन्टेट को बेहतर बनाए

सफल ब्लॉगिंग का एक ही फॉमूला है कन्टेट इज किंग। इसके लिये जरूरी है कि आप अपने ब्लॉग के कन्टेट को बेहतर बनाऐ। पूरी जानकारी आपने ब्लॉग पर दे। बेहतर कंटेट के लिये जरूरी होगा कि आप अपने रूचि और खास जानकारी वाले विषय पर ही ब्लॉग बनाऐ जिससे आप उन्हे ज्यादा बेहतर कंटेट दे पाऐंगे। मान लीजिये आपकी तकनीकि मे रूचि है और उसमे आपको जानकारी है तो आप उन्हे बेहतर कंटेट दे पाऐंगे। लेकिन अगर आप को इसमे रूचि नही है तो आप उन्हे बेहतर कंटेंट नही दे पाओगे। अगर आपका कंटेट बेहतर नही हुआ तो आप विजीटर को अपने से हमेशा नही बॉध पाओगे। इसलिये कंटेंट मे क्वालिटी जरूरी रखें।

6. थोडी तकनीकि जानकारी जरूर हासिल कर लें

ब्लॉगिंग मे अनेको उतार चढाव आते है इसलिये जरूरी है कि आप थोडी सी तकनीकि जानकारी जरूर हासिल कर ले। अन्यथा आपके ब्लॉग मे आई छोटी से छोटी तकनीकि समस्या को हल करने मे भी आपको बहुत परेशानी होगी। आप मान लीजिये कि आप को कार चलाना सीखनी है तो आपको टायर बदलना भी आना चाहिये नही तो अगर किसी सफर मे आपका टायर पंचर हो गया तो आपको काफी दिक्कत आयेगी। ब्लॉगिंग मे भी ठीक वैसा ही है। इसलिये ब्लॉगिंग से जुडी तकनीकि जानकारियॉ जरूर हासिल कर लें।

7. ब्लॉग के लिये समय का इंतेजाम पहले से कर ले

अगर आप ब्लॉग के अलावा कुछ और कर रहे है जैसे आप नौकरी कर रहे है, स्टूडेट है, बिजनेसमेन है या फिर ​ग्रहणी है तो जाहिर है आपके पास समय की कमी जरूर होगी। ऐसे मे अपने ब्लॉग के लिये समय का इंतेजाम जरूर कर ले। ब्लॉगिंग के लिये एक समय निश्चित कर ले। जिससे आप नियमित ब्लॉगिंग कर पाओगे। अगर आप जब चाहे तब ब्लॉग लिखना शुरू कर देते हो तो ये सही तरीका नही है। ऐसा करने पर आप नियमित पोस्टिंग नही कर पाओगे।

8. धैर्य रखे और ब्लॉगिंग मे लगे रहे

कुछ लोग ब्लॉगिंग को हलवा समझते है। सोचते है कि ब्लॉग शुरू किया और आपको सफलता मिल जाऐगी। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नही है। इसके लिये आपको अपने ब्लॉग को कम से 6 महीना या 1 साल का समय देना होगा। तभी आप एक सफल ब्लॉगर बन जाओगे। कुछ ब्लॉगर ब्लॉगिंग के एक या दो महीने बाद बेहतर रिजल्ट न मिल पाने के कारण उदास हो जाते है और सोचते है कि वे ब्लॉगिंग मे सफल नही हो पाऐगे और ब्लॉगिंग छोड देते है। ब्लॉग एक पौधे की तरह है जिसे बडा होने मे समय लगता है लेकिन एक बार पौधा पेड बन जाऐ तो आपको मीठे फल देता है। ब्लॉगिंग मे फल का मतलब फेम और पैसे से है।

उम्मीद है आपको हमारी ब्लॉगिंग सीरीज पसन्द आ रही होगी। आपको हमारे ब्लॉग के पोस्ट कैसे लगते है हमे जरूर बताऐ। आप किस प्रकार के पोस्ट हमारे ब्लॉग पर चाहते है हमे कमेन्ट के जरिये बताऐ। आपके सुझाव और शिकायत हमारे लिये महत्वपूर्ण है। ​जिससे हम अपने कंटेट को और भी बेहतर बना सकते हैं।